बेतालघाट में एडवोकेट यशपाल आर्य का कोरोना से निधन

0
1180

बेतालघाट  में एडवोकेट यशपाल आर्य का कोरोना से निधन हो गया है। जिला पंचायत सदस्य सिमलखा आशा आर्या के पति यशपाल आर्य का आकस्मिक निधन हो गया है। वे पैंतीस वर्ष के थे। बेतालघाट तल्लागाव निवासी यशपाल आर्य लगभग एक हफ्ते से सर्दी जुकाम व हल्के बुखार से पीड़ित थे। बुधवार दिन में उन्हें सांस लेने में हल्की तकलीफ हुई तो उन्होंने अपने मित्रों के साथ जाकर मल्लागाव में चल रहे कोरोना जांच शिविर में जाकर अपना आर.टी.पी.सी.आर. टेस्ट करवाया जहां से स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उन्हें हायर सेन्टर के लिए भेज दिया। आनन-फानन में उनके साथ गये कुलदीप कुमार व अन्य साथी उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बेतालघाट ले गये जहां प्रारम्भिक उपचार के बाद उन्हें एम्बुलेंस से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र खैरना भेज दिया गया। सिमलखा से थोड़ी दूर पहुंचने के बाद उन्होंने अन्तिम सांस ली और संसार को अलविदा कह गये। खैरना हास्पीटल पहुंचने पर चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दुबारा कोरोना की जांच की तो उनकी कोरोना रिपोर्ट पोजिटिव आयी।

उपजिलाधिकारी कोश्याकुटोली की निगरानी में कोरोना गाइड लाइन के नियमानुसार खैरना। शमशान घाट पर उनका अन्तिम संस्कार किया गया। यशपाल के बड़े भाई गोपाल चन्द्र ने उनकी चिता को मुखाग्नि दी। मिलनसार स्वभाव के यशपाल आर्य ने अल्मोड़ा से वकालत की डिग्री हासिल करने के बाद बी. एड. भी किया पर सामाजिक कार्यों के प्रति ललक से उन्होंने जनदेश  सामाजिक वेलफ़ेयर सोसायटी   बनाकर समाज सेवा करनी शुरू कर दी। उनकी पत्नी आशा आर्या इस बार के पंचायत चुनावों में सिमलखा जिला पंचायत सीट से भारी मतों से विजयी रही। 

यशपाल अपने पीछे पत्नी, 10  वर्ष की बिटिया जिया व नौ साल के बेटे  भावेश को  रोता विलखता छोड़ गये। उनके आकस्मिक निधन पर कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्या, विधायक संजीव आर्या, राज्य मंत्री पी सी गोरखा,  ज़िला पंचायत अध्यक्ष वेला तोलिया प्रमुख आनन्दी देवी,  जिला पंचायत सदस्य अंकित शाह व मंजू आर्या, खण्ड विकास अधिकारी डी के सुयाल, थानाध्यक्ष प्रेम विश्वकर्मा, समस्त प्रधान बन्धुवों, क्षेत्र पंचायत सदस्यों, मंडल अध्यक्ष प्रताप बोहरा, किसान मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष दलीप बोहरा, व्यापार मंडल अध्यक्ष देव पडियार , महेंद्र कुमार, कुलदीप चन्द्र, शेखर फुलारा, कैलाश चन्द्र,  कुलवंत सिंह जलाल, खुशाल हाल्सी आदि ने शोक संवेदना ब्यक्त की है।उनके असामयिक निधन से क्षेत्र में शोक की लहर व्याप्त है।