बंशीधर भगत के इंदिरा हृदयेश पर दिए बयान पर सीएम रावत ने मांगी माफी,हरीश रावत ने त्रिवेंद्र रावत के बड़प्पन को सराहा

0
1366

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत प्रदेश की 70 विधानसभा में कायकर्ताओं से संवाद कार्यक्रम के तहत दूसरे चरण के भ्रमण की शुरुआत हो गई है। इस दौरान बंशीधर भगत मंगलवार को नैनीताल जिले में थे। जहां उन्होंने कांग्रेस नेता डॉ.इंदिरा हृदयेश पर ऐसी टिप्पणी कर दी की,उनकी इस टिप्पणी के बात पूरे उत्तराखंड में बीजेपी बैकफुट पर आ गई। जिसके बाद मुख्यमंत्री को बंशीधर भगत की इस टिप्पणी को लेकर मांफी मांगनी पड़ी।

दरअसल कुछ दिनों पहले नेता प्रतिपक्ष डॉ.इंदिरा हृदयेश ने बयान दिया था कि बीजेपी के सात से आठ विधायक उनके संपर्क में हैं। डॉ.इंदिरा हृदयेश के इस बयान के बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने अपने संवाद कार्यक्रम के दूसरे चरण के भ्रमण के तहत नैनीताल जिले में सभी मर्यादाओं को ताक पर रखकर नेता प्रतिपक्ष को ‘बुढ़िया’ संबोधित कर कहा कि ‘अरे बुढ़िया, हमारे विधायक तुझ से क्यों संपर्क करेंगे? क्या डूबते जहाज से संपर्क करेंगे?,बंशीधर भगत के इस बयान के बाद पूरे उत्तराखंड में हर आमौखास ने उनके इस बयान की आलोचना की और उनसे तुरंत मांफी मांगने को कहा।

भगत के अमर्यादित बयान पर सीएम त्रिवेंद्र रावत ने मांगी माफी

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के अमर्यादित बयान पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने खेद जताते हुए नेता प्रतिपक्ष डॉ.इंदिरा हृदयेश से माफी मांगी है। मुख्यमंत्री रावत ने ट्वीट कर लिखा है कि, ‘आदरणीय इंदिरा हृदयेश बहिन जी, आज मैं बहुत दुःखी हूं। महिला हमारे लिए अति सम्मानित व पूज्या हैं। मैं व्यक्तिगत रूप से आपसे व उन सभी से क्षमा चाहता हूं जो मेरी तरह दुःखी हैं। मैं कल आपसे व्यक्तिगत बात करूंगा व पुनः क्षमा याचना करूंगा’।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत हुए सीएम त्रिवेंद्र के मुरीद, सीएम त्रिवेंद्र के बड़प्पन को सराहा

पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता हरीश रावत ने एक बार फिर सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की तारीफ की है। इंदिरा ह्र्दऐश के लिए जिस प्रकार के शब्दों का इस्तेमाल भाजपा अध्य्क्ष बंशीधर भगत ने किया। उस पर सीएम त्रिवेंद्र ने बिना देर लगाए माफी मांगते हुए। जहाँ अपना बड़पन दिखा दिया वहीं कही न कही बंशीधर को एक संदेश भी दे दिया। हरीश रावत ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के माफी मांगने पर खुशी जताते हुए कहा है,की सीएम त्रिवेंद्र ने पार्टी को फजीहत से बचा लिया। नर्सिंग प्रकरण पर सीएम त्रिवेंद्र के फैसले की भी हरीश रावत ने तारीफ की है।