चमोली के घाट विकासनगर बाजार में बादल फटने से मची भारी तबाही,मलबे में दबे कई लोगों

0
1849

उत्तराखंड से एक बार फिर से बादल फटने की खबर सामने आई है। सोमवार को रूद्रप्रयाग,टिहरी, उत्तरकाशी जिले में भी बादल फटने की खबर के बाद आज मंगलवार को चमोली के घाट विकासनगर बाजार में बादल फटने से भारी तबाही की खबर सामने आ रही है। जिसमें कुछ लोगों के दबे होने की सूचना है। बादल फटने से भारी नुकसान हुआ। भारी मात्रा में मलबा घाट बाजार और आसपास के आवासीय भवनों में घुस गया है।

उत्तराखंड में पिछले कई दिनों से भारी बारिश हो रही है। जिसके चलते सोमवार को उत्तरकाशी,टिहरी और रूद्रप्रयाग जिले में बादल फटने से भारी तबाही हुई थी। लगातार हो रही बारिश से आज मंगलवार को चमोली के घाट ब्लॉक में बादल फटने से लक्ष्मी मार्केट में तबाही मच गई। पानी घरों, मकानों,दुकानो घुस गया। जिससे इस क्षेत्र में भारी नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है। पूरा बाजार और सड़कें दल-दल में तब्दील हो गईं हैं। बैंड बाजार पूरी तरह से मलबे से भर गया है। यहां कई वाहन मलबे में दबे हैं। सहकारी बैंक शाखा से होते हुए मलबा बाजार में फैल गया। यहां भी कई वाहन और घर मलबे में दब गए हैं। बादल फटने की खबर मिलते ही मौके पर प्रशासन और राजस्व पुलिस की टीमें राहत और बचाव कार्य में जुट गई है। लेकिन लगातार हो रही बारिश के चलते राहत और बचाव कार्य में दिक्कतें आ रही है।

घटना स्थल पर पहुंचे तहसीलदार राकेश देवली ने बताया कि उत्तराखंड में पिछले कई दिनों से भारी बारिश हो रही है। जिसके चलते आज अचानक विकासनगर बाजार के पास की बिनसर पहाड़ी पर बादल फटने से उसका पूरा मलबा बाजार की ओर आ गया। जो लोगों के घरों,दुकानों में घुस गया है। घटना की जानकारी मिलते ही हमारी पूरी टीम यहां पहुंची है। बचाव और राहत का कार्य जारी है। भारी बारिश के चलते चारों ओर मलबा फैल चुका है। सबसे पहले हमारी कोशिश यह हैं कि इस मलबे में कोई फंसा न हो,उसे खोजने की है। यहां किती क्षति हुई है,इसका आंकलन करना अभी बहुत मुश्किल है।

आपको बता दें कि चमोली के घाट ब्लॉक में बादल फटने की जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री तीरथ रावत पुलिस,प्रशासन और क्षेत्रीय जन-प्रतिनिधियों के संपर्क में है। एसडीआरएफ की टीम मौके लिए रवाना कर दिया गया है। जिला प्रशासन चमोली और चमोली पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। इस बीच मौसम विभाग ने पांच और छह मई के लिए पूर्व में जारी येलो अलर्ट को ऑरेंज अलर्ट में तब्दील कर दिया है। पर्वतीय जिलों के साथ-साथ मैदानी इलाकों में भी बारिश और ओलावृष्टि की आशंका है।