पंचतत्व में विलीन हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री बची सिंह रावत,सीएम तीरथ रावत सहित पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत,भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने दी श्रद्धांजलि

0
1097

उत्तराखंड भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री बची सिंह रावत पंचतत्व में विलीन हो गए। रानीबाग के चित्रशिला घाट पर राजकीय सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि हुई। उनके बेटे शशांक रावत ने मुखाग्नि दी। इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को भाजपा के कुमाऊं संभाग कार्यालय में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था।

सरलता एवं सादगी के प्रतीक जन लोक प्रिय पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं सासद बच्ची सिंह रावत का सोमवार की देर सांय चित्रशिलाघाट पर वैदिक रीति के साथ अंतिम संस्कार किया गया। अतिंम संस्कार में प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत,पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत तथा केन्द्रीय शिक्षा मंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.धनसिंह रावत ने भारतीय जनता पार्टी कुमाऊॅ सम्भाग कार्यालय में बचदा के पार्थिक शरीर पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी।

चित्रशिला घाट रानीबाग में डिप्टी स्पीकर रघुनाथ सिंह चौहान सांसद अजय भट्ट, अजय टम्टा, शहरी विकास मंत्री बंशीधर भगत, विधायक बलवंत सिंह भौर्याल, मेयर डॉ. जोगेन्द्र पाल सिंह रौतेला, जिला अध्यक्ष भाजपा प्रदीप बिष्ट ने अंतिम संसकार में पहुंच कर श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी। दिवंगत बचदा के पार्थिक शव पर पुष्पाजंलि अर्पित कर श्रद्धा सुमन अर्पित किये।
इस अवसर पर प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि स्वर्गीय बचदा सरलता व सादगी के प्रतीक थे। उनके द्वारा केन्द्रीय राज्य मंत्री रहते हुए उत्तराखण्ड में केन्द्रीय विद्यालयों की स्थापना कराई गई। स्वर्गीय बचदा ने 2004 में आर्य भट्ट प्रेक्षण विज्ञान शोध संस्थान(एरीज) नैनीताल को केन्द्रीय दर्जा दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके इस योगदान को हमेशा याद किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि बचदा का जाना पूरे प्रदेश के लिए बहुत बडी क्षति है जिसकी भरपाई निकट भविष्य मे संम्भव नही है भागवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। तथा उनके परिजनों को इस महान दुख को सहने की शक्ति प्रदान करें।  

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने शोक संदेश में कहा कि स्वर्गीय बची सिंह रावत जी (बचदा) के अंतिम दर्शन किए, पुण्यात्मा को कोटिशः नमन। आपके द्वारा समाज, प्रदेश और देश के प्रति योगदान के लिए हम सदा सर्वदा ऋणी रहेंगे। परमपिता परमेश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि पुण्यात्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें। ॐ शांति! आदरणीय ‘बच दा’ के जाने से मन व्यथित है।