यूक्रेन फंसे उत्तराखंडियों की वापसी शुरू,सीएम पुष्कर धामी ने एनएसए अजीत डोभाल और यूक्रेन में निवासरत लोगों के परिजनों से की बात

0
778

यूक्रेन में फंसे भारतीयों की वापसी शुरू हो गई है। इनमें कई छात्र भी शामिल है। खबरों के मुताबिक भारतीय छात्रों का पहला जत्था चेर्निस से यूक्रेन-रोमानिया सीमा के लिए रवाना हो गया है।  पश्चिमी यूक्रेन के Lviv और Chernivtsi में विदेश मंत्रालय के कैंप सक्रिय हो गए हैं। इन खबरों को पुख्ता करती कुछ तस्वीरें भी सामने आ गई है कि जिसमें 25 से 30 भारतीय छात्र वतन वापसी पर अपनी खुशी जाहिर कर रहे हैं।

उत्तराखंड की बात करें तो यूक्रेन में फंसे भारतीयों में बड़ी संख्या में प्रदेश के छात्र और कई लोग शामिल है। राज्य में 95 शिकायतें अब तक प्राप्त हुई है। यूक्रेन में फंसे हुए लोगों की सूचना देने के लिए पुलिस महानिरीक्षक पी.रेणुका देवी (मो. न. 7579278144) और पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार (मो. न. 983778889) को नोडल अधिकारी नामित किया गया है।

मुख्यमंत्री पुष्कर धामी में लगातार इस मामले पर नज़र बनाए हुए है। उन्होंने  राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से फोन पर बातचीत की,एनएसए डोभाल ने मुख्यमंत्री धामी को यूक्रेन में रह रहे उत्तराखण्ड के छात्रों और अन्य लोगों की सुरक्षा के प्रति आश्वस्त किया। इसी के साथ सीएम धामी यूक्रेन में निवासरत लोगों के स्‍वजनों से भी फोन पर बात की है। मुख्यमंत्री ने उनसे धैर्य बनाए रखने की अपील की है। मुख्यमंत्री यूक्रेन में रह रहे उत्तराखंड वासियों की सुरक्षा और उन्हें वापसी लाने को लेकर निरंतर केंद्र सरकार के अधिकारियों से भी बात कर रहे है। उन्होंने कहा हैं कि राज्य सरकार हर स्तर पर प्रयास कर रही है कि हर उत्तराखंडवासी सकुशल अपने वतन लौट सके।

आपको बता दें कि यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के लोगों के संबंध में पुलिस विभाग की ओर से जारी किए किए गए कंट्रोल रूम नंबर 112 व अन्य हेल्पलाइन नंबरों पर 95 शिकायतें प्राप्त हो गई हैं। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने बताया कि यूक्रेन में फंसे अब तक 95 लोगों की जानकारी हमें मिल गई है। अन्य माध्यमों से भी यूक्रेन में फंसे लोगों की जानकारी जुटाई जा रही है।

इस बीच उत्तराखंड के अलग-अलग जिलों से यूक्रेन में फंसे लोगों की सूचना आने लगी है। रुद्रप्रयाग जिले के चार छात्र यूक्रेन मे फंसे है। जिनमें अगस्त्यमुनि एवं ऊखीमठ ब्लॉक के दो-दो छात्रों के फंसे होने की जानकारी मिल रही। ये सभी यूक्रेन में मेडिकल की पढ़ाई के लिए गए थे। अगस्त्यमुनि सीएचसी में तैनात फॉर्मासिस्ट डीएल मिंगवाल के पुत्र अंकित चन्द्रा एवं फलई गांव के पूर्व प्रधान विजय भट्ट की पुत्री अवंतिका भट्ट यूक्रेन की राजधानी कीव में पढ़ाई कर रहे हैं।

इसी तरह टिहरी जिले  के आधा दर्जन के करीब छात्र यूक्रेन में फंसे है। यह छात्र में एमबीबीएस की पढ़ाई करने वहां गए थे। इनमें सौम्या राणा पुत्री उदय वीर राणा सेक्टर 9-ए बौराड़ी,सिद्धि तोपवाल पुत्री पदम सिंह ग्राम नवागर,मनीष राणा पुत्र जसपाल राणा सेक्टर 9-बी बौराड़ी,पारस पुत्र मान सिंह रौतेला सेक्टर 8-बी बोराड़ी,आदित्य कंडारी पुत्री दरमियान 7-बी  बौराड़ी शामिल है।

टिहरी जिलाधिकारी, युवा आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि इस संबंध में उन्हें जानकारी है तथा यूक्रेन में फंसे लोगों के संबंध में और भी जानकारियां प्राप्त की जा रही है, आज शाम तक सभी सूचनाएं एकत्रित कर अग्रिम कार्रवाई हेतु शासन को भेज दी जाएगी पौड़ी गढ़वाल जिले के कोटद्वार की बात करें तो यहां की करीब 20 से 22 परिवार ऐसे हैं,जिनके बच्चे यूक्रेन में फंसे हैं। जिसके चलते उनके परिजनों की सांसें अटकी हुई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here