व्यवस्था को पटरी पर लाने खुद सड़कों पर उतरे जिले के कोविड प्रभारी मंत्री गणेश जोशी,तीलू रौतेली कोविड केयर सेंटर और टीकाकरण केन्द्र का भी किया निरीक्षण

0
864

देहरादून जनपद के कोविड उपचार व्यवथाओं के प्रभारी और सैनिक कल्याण, औद्योगिक विकास, एम0एस0एम0ई0 तथा खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री गणेश जोशी द्वारा आज आत्माराम धर्मशाला, किशननगर स्थित कोविड टीकाकरण केन्द्र का निरीक्षण किया। इसके बाद कैबिनेट मंत्री सर्वेचैक स्थित तीलू रौतेली महिला छात्रावास भवन में बनाए गए कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण करने पहुंचे। यहां कोविड जांच तथा उपचार की व्यवस्थाओं का जायजा लेने के उपरांत उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को भी आड़े हाथों लिया। कोविड कफ्र्यू के दौरान बेवहज बाहर घूम रहे लोगों पर सख्ती करने के निर्देश दिए और अधिकारियों को सड़क का हाल दिखाने के लिए अपने साथ ही नगर के मुख्य चैराहों पर ले गए।

प्रिंस चौक पहुंचे काबीना मंत्री ने पुलिस तथा प्रशासन के अधिकारियों को कोविड कफ्र्यू के समय में सड़कों पर निकल रहे लोगों से बाहर निकलने का कारण पूछने तथा अनावश्यक घूम रहे लोेगों पर कार्यवाही करने के निर्देश दिए। कोविड कफ्र्यू का सख्ती से अनुपालन न करवाने पर वह अधिकारियों पर जम कर बरसे तथा चैराहों में स्वयं अपनी निगरानी में लोगों से पूछताछ करवाई। सहारनपुर चैक पर रूक कर पुनः काबीना मंत्री ने अपने सामने लोगों से पूछताछ करवाई। इस दौरान पुलिस ने बेवहज घूम रहे लोगों का चालान भी काटा।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि सरकार नागरिकों के अमूल्य जीवन की रक्षा करने के लिए हर स्तर पर प्रयासरत है। एक ओर कोविड उपचार सुविधाओं का लगातार विकास किया जा रहा है। लगातार नए अस्पतालों को कोविड उपचार हेतु उलब्ध करवाया जा रहा है। विकासनगर, धूलकोट, गढ़ीकैंट, तथा आई0डी0पी0एल0 इत्यादि में कोविड केयर संेटर विकसित किए जा रहे हैं। टीकाकरण की गति को लगातार बढ़ाया जा रहा है। इसके अलावा कोविड परिस्थितियों में आक्सीजन, दवाईयों, आवश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी तथा ओवर रेटिंग न हो इसके लिए लगातार व्यवस्था बनाई जा रही है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत लगातार कोविड उपचार तथा अन्य व्यवस्थाओं की लगातार समीक्षा कर रहे हैं। मीटिंग में अधिकारियों को खुद मैंने ही जो निर्देश दिए हैं, उनका अनुपालन जिला प्रशासन और पुलिस किस तरह कर रही है यही देखने के लिए मैं सड़कों पर उतरा हूं।

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार के लिए जनता का जीवन बचाना सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसलिए यदि नागरिकों का जीवन बचाने के लिए यह अंतिम विकल्प हुआ तो लाकडाउन के विकल्प पर भी विचार किया जा सकता है। देहरादून में संक्रमितों की सर्वाधिक संख्या के संबंध में पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि देहरादून नगर की आबादी के अलावा पूरे राज्य से मरीज आ रहे हैं। इसके अलावा राज्य की सीमा से सटे पड़ोसी राज्यों, उत्तर प्रदेश, हिमाचल, पंजाब तथा दिल्ली तक के मरीज यहां के अस्पतालों में उपचार हेतु आ रहे हैं। जिस कारण यहां आंकड़े बढ़ रहे हैं। हालांकि हम लगातार सभी को उपचार प्रदान करने का प्रयास कर रहे हैं।

यह खबर कुछ खास है

इस दौरान सिटी मजिस्ट्रेट कुसुम चैहान, एसडीएम गोपाल बिनवाल, पुलिस अधीक्षक सरिता डोभाल, सीओ सिटी सहित चिकित्सा विभाग के अधिकारी एवं पार्षद नन्दनी शर्मा, राकेश जोशी, अंकित जोशी, यशवीर चैहान आदि उपस्थित रहे।