उत्तराखण्ड के वर्तमान मुख्यमंत्री तीरथ रावत ने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को सौंप इस्तीफा,त्रिवेंद्र रावत को एक बार फिर से राज्य की बागडोर सौंपने की तैयारी!

0
1527

उत्तराखण्ड में एक बार फिर से सियासी संकट गहरा गया है। मुख्यमंत्री तीरथ रावत ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। इसी के साथ उन्होंने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने संवैधानिक कारणों का हवाला देते हुए अपना इस्तीफा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को सौंप दिया है। सीएम रावत ने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिख कर इस्तीफ़ा भेजा, इस पत्र में उन्होंने लिखा हैं कि जनप्रतिनिधि क़ानून की धारा 151 A के तहत अब उप चुनाव संभव नहीं है,इस लिए मैं मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा देता हूं।

देहरादून में शनिवार को विधानमंडल दल की बैठक होने जारी है। जिसमें केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पर्यवेक्षक बनकर पहुंच रहे है। जिनकी मौजूदगी में ही नये मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान होगा। इसी बीच खबर हैं कि केंद्रीय नेतृत्व एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को राज्य की बागडोर सौंपने जा रहा है। मुख्यमंत्री की रेस में हमेशा की तरह वैसे धन सिंह रावत,हरक सिंह रावत, रीतू खंडूरी और पुष्कर धामी का भी नाम भी शामिल है।

आपको बता दें उत्तराखण्ड के मुख्‍यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लेखकर कहा हैं कि आर्टिकल 164-ए के हिसाब से उन्हें मुख्यमंत्री बनने के बाद छह माह में विधानसभा का सदस्य बनना था, लेकिन आर्टिकल 151 कहता हैं अगर विधान सभा चुनाव में एक वर्ष से कम का समय बचता हैं तों वहां पर उप-चुनाव नहीं कराए जा सकते हैं। उतराखण्ड में संवैधानिक संकट न खड़ा हो, इसलिए मैं मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देना चाहता हूं। मुख्यमंत्री तीरथ रावत अब से कुछ देर बात पत्रकारों वर्ता करने जा रहे है। जिसमें वह अपनी आगे रणनीति के बारे में बातएंगे।