उत्तराखंड डीजीपी की लोगों से अपील आपका जीवन बचा,दूसरों का जीवन बचाने के लिए आगे आएं

0
1015

उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार लोगों से अपील की है कि वो दूसरे कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए प्लाज्मा दान करें ताकि किसी गंभीर रूप से पीड़ित व्यक्ति की जान बचायी जा सके। इस तरह से वह किसी परिवार में खुशहाली लाकर उनकी खुशियां लौटा सकते हैं। प्लाज्मा डोनेट करने को लेकर लोगों में कई भ्रांतियां हैं। उन्हें डर लग रहा है की कहीं फिर उन्हें कोरोना ना हो जाए। प्लाज्मा डोनेट करने से उन्हें कमजोरी या अन्य शारीरिक परेशानी हो सकती है, लेकिन उन्हें पता होना चाहिए कि ऐसा कुछ भी नहीं होता है। इसके उलट अच्छा लगता है कि हम किसी के काम आ रहे हैं। एक अच्छा काम कर रहे हैं। ठीक हो चुके व्यक्ति अगर प्लाज्मा डोनेशन करेंगे, तो गंभीर कोरोनो रोगियों को नया जीवन दिया जा सकेगा। इसलिए जो भी प्लाज्मा डोनेट कर सकता है। उन्हें जरूर आगे आना चाहिए।

उत्तराखण्ड पुलिस के दो डिजिटल वॉटियर गंभीर पॉजिटिव मरीजों का जीवन बचाने के लिए प्लाज्मा डोनेशन की इस मुहीम में विशेष योगदान दे रहे हैं। और मरीज एवं प्लाज्मा डोनर की दूरी को कम कर एक जीवन रक्षक प्रणाली के रूप में कार्य कर रहे हैं। पहले हैं जनपद ऊधमसिंहनगर के डीजिटल वॉलंटियर अलीम खान, जिन्होंने उपनिरीक्षक वन्दना चौधरी के साथ प्रदेश के कोरोना संक्रमित मरीजों की मदद के लिए प्लाज्मा डोनेशन वेबसाइट बनाई है। वेबसाइट के माध्यम से अभी तक लगभग 45 लागों द्वारा जरूरतमंदों को प्लाज्मा डोनेट किया है। वेबसाइट का लिंक है-

दूसरे हैं हल्द्वानी, नैनीताल के वंदे मातरंम ग्रुप के अभिनव वार्ष्णेय और शैलेन्द्र दानू। वंदे मातरम ग्रुप के सदस्य एक फोन पर कोरोना मरीजों और उनके परिजनों तक सहायता पहुंचाने का काम कर रहे हैं। जिसमें कोविड मरीजों की प्लाज्मा उपलब्ध कराने के अलावा, ऑक्सीजन की सहायता, मरीजों को लाने ले जाने सहित कोविड-19 संक्रमित परिवारों के घरों को सैनिटाइज भी किया जा रहा है। इनके द्वारा अभी तक लगभग 25 जरूरतमंदों लागों को प्लाज्मा उपलब्ध कराया गया है।