कोरोना का कहरःउत्तराखंड में 10वीं की परीक्षाएं रद, 12वीं की परीक्षाएं स्थगित

0
967

दुनियाभर में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से हाहाकार मचा है। जिसके चलते तमाम राज्यों में कोरोना की दूसरी लहर की रोकथाम के लिए रात्रिकालीन कर्फ्यू लागू कर दिया गया। सरकार लोगों से घरों में रहने की अपील कर रही है। भारत में पिछले कुछ घंटे में लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों ने सरकार के चिंता की लकीरें खींच दी है। सरकार हर तरह कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर को रोकोने के प्रयास कर रही है।

इसी बीच उत्तराखंड से बड़ी खबर आ रही है। उत्तराखंड में लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए। सीबीएसई और देश के अन्य बोर्डों की तर्ज पर उत्‍तराखंड सरकार ने 10 वीं की परीक्षा को रद करने की घोषणा कर दी है। साथ ही 12वीं की परीक्षाओं को स्‍थगित करने का निर्णय लिया है।

उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने ट्वीट कर जानकारी दी हैं की ‘प्रिय विद्यार्थियों एवं प्रदेशवासियों,यशस्वी मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत जी के कुशल नेतृत्व में प्रदेश में कोरोना महामारी के दृष्टिगत परीक्षार्थियों की सुरक्षा और बचाव हेतु उत्तराखण्ड विद्यालयी शिक्षा परिषद की कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षाओं को निरस्त करने तथा कक्षा 12वीं की परीक्षाओं को स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। उक्त सन्दर्भ में सभी प्रदेशवासियों को आश्वस्त करना चाहता हूँ कि यशस्वी मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत जी के कुशल नेतृत्व में आगे भी विद्यार्थियों के स्वास्थ्य एवं उज्ज्वल भविष्य के दृष्टिगत ही निर्णय लिए जाएंगे। सभी से आग्रह करता हूँ कि कोरोना  वायरस से सुरक्षा और बचाव हेतु केंद्र और राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों का अनुपालन करें। कोरोना वायरस से सभी की सुरक्षा और बचाव हेतु सभी का सहयोग अपेक्षित है’।

यह जानकारी रविवार सुबह शिक्षा मंत्री आरविंद पांडे ने ट्वीट कर दी है। उन्होंने कहां है कि यह निर्णय विद्यार्थियों के स्वास्थ्य व उज्ज्वल भविष्य के दृष्टिगत लिया गया हैं और आगे परीक्षाएं कब और कैसे होंगी इसका निर्णय भी विद्यार्थियों के स्वास्थ्य व उज्ज्वल भविष्य के दृष्टिगत लिया जाएंगे। 

आपको बता दें इस बार उत्तराखंड में बोर्ड परीक्षाएं इस बार 4 मई से शुरू होकर 22 मई तक होने वाली थी। इस बार हाईस्कूल की परीक्षा में 148355 और इंटर में 122184 परीक्षार्थी शामिल थे। जिसमें हाईस्कूल में 145691 संस्थागत व 2664 व्यक्तिगत तथा इंटर में 118135 संस्थागत व 4049 व्यक्तिगत परीक्षार्थी हैं। लेकिन पूरे देश और उत्तराखंड में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के खतरे को देखते हुए बोर्ड परीक्षा भी निरस्त करने का निर्णय लिया गया है।