देहरादून में एक ही दिन में 165 पक्षियों के शव मिलने से हड़कंप,बर्ड फ्लू की आशंका को लेकर प्रशासन एलर्ट

0
1547

दुनिया भर में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है। इस बीच देश में बर्ड फ्लू के नए खतरे ने दस्तक दे दी है। केरल,मध्यप्रदेश,हिमाचल और राजस्थान के बाद अब उत्तराखंड में एक ही दिन में 165 पक्षियों के शव मिलने से राज्य में हड़कंप मच गया है।

उत्तराखंड में भले ही बर्ड फ्लू को कोई भी मामला सामने नहीं आया हो। लेकिन एक ही दिन में इतनी बड़ी संख्या में पक्षियों के शव मिलने से वन विभाग एवं पशुपालन विभाग की चिंता बढ़ गई है। जिसके बाद इस पक्षियों के शवों को भारतीय पशुचिकित्सा अनुसंधान संस्थान बरेली भेजा गया है।

आपको बता दें कि रविवार को देहरादून में 162 कौए, दो कबूतर और एक चील मृत पाए गए थे। इसी के साथ वन विभाग को दून के बांबे बाग में बड़ी संख्या में कौओं की मौत की सूचना भी मिली थी। इसके अलावा दून के गांधीग्राम में छह और बंगाली कोठी से एक कौआ मृत पाया गया था। वहीं, ऋषिकेश में 31 कौए और दो कबूतर मरे मिले थे। डोईवाला में भी दस कौए मृत पाए गए थे।

उत्तराखंड में लगातार जगह-जगह से कौओं के मरने के मामले सामने आ रहे हैं। जिसके बाद से वन विभाग एवं पशुपालन विभाग शर्तक हो गया है। पूरे राज्य में अलर्ट घोषित कर दिया है गया है। एहतियात के तौर पर राज्य में मुर्गों के सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं।

राज्य में भी बर्ड फ्लू की आशंका को लेकर शासन-प्रशासन में हड़कंप का माहौल है। राज्य की पशुपालन राज्यमंत्री रेखा आर्य ने भी इस मामले पर चिंता जाहिर की है। उनका कहना हैं कि कोरोना वैक्सीन के ड्राई रन के बीच बर्ड फ्लू की दहशहत निश्चित तौर पर दुःखद है। फिर भी राज्य में बर्ड फ्लू को लेकर नियमित रूप से निगरानी की जा रही रही है। अभी तक किसी पोल्ट्री फार्म में बर्ड फ्लू रोग के लक्षण नहीं मिले हैं। लेकिन फिर भी एहतियात के तौर पर एक कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है। साथ ही टोल फ्री नंबर 18001208862 भी जारी किया है। इतना ही नहीं, पशुपालन विभाग ने संक्रमित राज्यों से अंडों, मुर्गियों व चूजों की आपूर्ति को प्रतिबंधित किया गया है। बर्ड फ्लू की जांच के लिए जिला व ब्लाक स्तर पर सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं।