प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने की कोरोना महामारी के खिलाफ महाअभियान की शुरुआत,पहले दिन 1.65 लाख लोगों को दी गई खुराक

0
982

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को वर्चुअल माध्यम से कोविड-19 महामारी के खिलाफ विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का शुभारम्भ किया। भारत में दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के पहले दिन 1.65 लाख लोगों को खुराक दी गई। नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में सबसे पहले सफ़ाईकर्मी मनीष कुमार को कोविड-19 वैक्सीन दी गई।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार शनिवार शाम 5:30 बजे तक पूरे देश में 1,65,714 लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया। वहीं वैक्सीन लगाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों की संख्या 16,755 थी। दिल्ली एम्स में सफाई कर्मचारी मनीष कुमार को कोरोना का पहला टीका लगने के साथ की इस महाअभियान की शुरूआत हुई। इस मौके पर मनीष कुमार ने कहा, ‘मेरे लिए यह अनुभव बहुत ही अच्छा रहा, कोरोना वैक्सीन लगने से मुझे कोई झिझक नहीं हुई। यह मेरे लिए सौभाग्य की बात हैं कि मैं अपने देश की और सेवा करता रहूंगा। मनीष के देश के लोगों से अपील भी की कि वैक्सीन लगाने के लिए किसी भी तरह से घबराने की जरूरत नहीं है। मेरे मन में जो डर था वो भी निकल गया। सबको वैक्सीन लगवानी चाहिए।’

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दून अस्पताल के नवीन ओपीडी में इस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। दून अस्पताल में चिकित्सकों और हेल्थवर्करों के टीकाकरण से राज्य के सभी 13 जिलों में कोविड-19 के टीकाकरण का शुभारम्भ किया गया। उत्तराखंड में वॉर्ड बॉय शैलेंद्र को वैक्सीन का पहला टीका लगा। शैलेंद्र दून मेडिकल कालेज के वॉर्ड बॉय है। उत्तराखंड में वेक्सिनेशन के लिए तय 34 केंद्रों में 3178 के सापेक्ष 2226 हेल्थ केयर वर्कर का टीकाकरण हुआ। जो निर्धारित लक्ष्य का 70 फीसदी है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा शनिवार को विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का शुभारम्भ किया गया है। राज्य को पहले चरण में एक लाख 13 हजार वैक्सीन उपलब्ध हुई है। 50 हजार स्वास्थ कर्मियों के टीकाकरण से इसकी शुरूआत की जा रही है। इसके बाद फ्रंट लाईन वर्कर, 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों एवं को- मॉर्बिड का वैक्सीनेशन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों ने विषम परिस्थितियों में कार्य करते हुए कोरोना महामारी को काफी हद तक नियंत्रित किया। अपनी जान की परवाह किये बगैर उन्होंने जन सेवा की। दून मेडिकल कॉलेज द्वारा मृत्युदर कम करने के लिए सराहनीय प्रयास किये गये।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि चरणबद्ध तरीके से सभी लोगों का कोविड टीकाकरण किया जायेगा। उन्होंने जनता से अपील की कि टीकाकरण के लिए भ्रामक प्रचार और अफवाहों से बचें। कोविड  से बचाव के लिए टीकाकरण के बाद भी पूरी सतर्कता बरती जाय, क्योंकि 28वें दिन में दूसरा टीका लगने के बाद 02 सप्ताह एण्टी बॉडी विकसित होने में लगते हैं। तब तक बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि कुंभ मेले के दृष्टिगत 20 हजार अतिरिक्त वैक्सीन के लिए केन्द्र सरकार से अनुरोध किया गया है।
इस अवसर पर मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक खजानदास, स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी, प्रभारी सचिव डॉ. पंकज पाण्डेय, महानिदेशक स्वास्थ्य डॉ. अमिता उप्रेती आदि उपस्थित थे।