राजाजी टाइगर रिजर्व से सटे साहब नगर के बाशिंदे,विकास से है कोसों दूर,तटबंध को लेकर है आंदोलनरत

0
1125
स्वरूप पुरी

उत्तराखण्ड राज्य बने आज भले ही दो दशक बीत चुके हों मगर आज भी कई यहां कई क्षेत्र ऐसे है। जो विकास से कोसों दूर है। सबसे ज्यादा बुरा हाल इस राज्य में स्थित नदियों के किनारों बसे हुए गांवो का है। ऐसा ही एक क्षेत्र है देहरादून का साहबनगर। राजाजी टाइगर रिजर्व से सटे इस गांव के लिए पार्क क्षेत्र से बह रही सांग व सुसवा नदियां संकट का सबब बन चुकी है।

इस छेत्र में पिछले कुछ वर्षो के दौरान इन नदियों ने जम कर कहर बरपाया है। वहीं बरसात के दौरान आने वाली बाढ़ के चलते यहां के ग्रामीणों की कई बीघा ज़मीन नदी में बह चुकी है। इसी के साथ ही नदी द्वारा लगातार हो रहे कटाव से नदी का रुख आबादी की ओर बढ़ रहा है। इस समस्या से निपटने के लिए अब यंहा के ग्रामीण आंदोलन की राह पर है।

गौरतलब हैं कि सिंचाई विभाग द्वारा पूर्व में ही इस क्षेत्र की वस्तुस्थिति का आकलन कर,इस क्षेत्र में तटबंध बनाने का प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है। मगर अब तक राज्य सरकार ने इसकी सुध तक नहीं ली। इसको लेकर शनिवार को राज्य मंत्री कृष्ण कुमार सिंघल ने स्थानीय जनता से मुलाकात कर उन्हें जल्द इस समस्या से छुटकारा दिलाने का वादा किया। उन्होंने सिंचाई विभाग के एसडीओ अभिनव नौटियाल की मौजूदगी में ग्रामीणों से वार्ता की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस प्रदेश के विकास के लिए कोई भी कसर नही छोड़ रही है।

साहबनगर कि समस्या को लेकर वे जल्द ही मुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगे। वहीं सिंचाई विभाग द्वारा इस दिशा में पहल की जा चुकी है। उनके द्वारा इस क्षेत्र में तटबंध बनाने को लेकर खाका तैयार कर लिया गया है। इसका इस्टिमेट भेजा जा चुका है। जल्द ही इस सम्बन्ध में मुख्यमंत्री से मुलाकात कर इस समस्या का निराकरण कर दिया जाएगा।