पिथौरागढ़ में लगातार हो रही बारिश से भारी तबाही,राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने से जिले का संपर्क देश से कटा

0
1150

उत्तराखंड में पिछले दिनों से लगातार हो रही भारी बरसात से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। राज्य में कई मार्गों पर मलबा आने से मार्ग बंद हो गए है। जिसके चलते खाने-पीने की वस्तुएं जगह-जगह फंसी हुई है। पिथौरागढ़ जनपद में भी मंगलवार रात से लगातार हो रही बारिश ने कई जगह तबाही मचाई है। लगातार बारिश के चलते ऑलवेदर रोड कई स्थानों पर बंद हो गया है। पीडब्लूडी और पीएमजीएसवाई से गांवों और कस्बों को जोड़ने वाले मार्गों के बुरे हाल हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग के लगातार बंद होने से जिले का संपर्क देश से कट गया है।  

पिथौरागढ़ जिले में हो रही लगातार बारिश से गांवों को शहर से जोड़ने वाले तमाम मार्ग बंद हो गए है। जिसके चलते खाने-पीने की वस्तुएं कई मार्गों में फंसे होने से जिले के कई ग्रामीण क्षेत्रों में खाद्यान्न का संकट खड़ा हो गया है। कई स्थानों पर सड़क पर मलबा आने से लोगों घण्टों इन मार्गों पर फंसे है। आपदा कंट्रोल रूम से मिली जानकारी के अनुसार घाट जिले में लगभग 10 स्थानों पर भारी मात्रा में मलबा गिरा है। जिले की लगभग 25 आंतरिक सड़कें मलबा आने से बंद हो गई हैं।

भारी बारिश के चलते सड़क बहने के बाद पिथौरागढ़-टनकपुर हाईवे पर पिथौरागढ़ से लोहाघाट तक सड़क संपर्क पूरी तरह टूट गया है। प्रशासन का कहना हैं कि अगले कुछ दिनों तक बड़े वाहनों के लिए सड़क खुलने के आसार नहीं हैं। मलबा आने से  आंतरिक सड़कें बंद होने से ग्रामीणों का संपर्क जिला मुख्यालय से कट गया है। कई स्थानों पर आवासीय मकानों की दीवारें,छत और घरों की सुरक्षा दीवार टूट गई हैं। पैदल मार्ग भी बारिश की भेंट चढ़ गए हैं।

भारी बारिश के चलते पिथौरागढ़ में एनएचपीसी ने बांध से पानी छोड़ा दिया है। जिससे काली नदी के किनारे बसे गांवों में भूकटाव का बड़ा संकट खड़ा हो गया है। जिला प्रशासन लगातार स्तिथियों पर नजर बनए हुए है। लोनिवि एवं पीएमजीएसवाई ने सड़कों को खोलने का काम शुरू कर दिया है।