टिहरी जिले में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए बड़ा कदम,टिहरी गजा अस्पताल में बनेगा 50 बेड का कोविड सेंटर

0
990

कोरोना संक्रमण तेजी के साथ अब उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में पैर पसारने लगा है। ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ते कोरोना संक्रमण की रफ्तार को रोकना स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन के लिए चुनौती बनता जा रहा है। इस चुनौती का समान करने के लिए सरकार अब ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा से ज्यादा से कोविड सेंटरों का निर्माण कन रही है। इस क्रम में टिहरी गजा अस्पताल में भी 50 बेड का कोविड सेंटर बनाए जाने को कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल जानकारी दी है। इस कोविड सेंटर का निर्माण टीएचडीसी के सहयोग से किया जाएगा। खाड़ी सीएचसी में निर्माणाधीन कोविड सेंटर का निरीक्षण करने पहुंचे कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने इस बारे में जानकारी दी।

कैबिनेट मंत्री ने बताया टिहरी और अन्य जनपदों से प्रतिदिन कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे है,जो लगातार यहां बने कोविड सेंटरों में पहुंच रहे हैं। इसे देखते हुए गजा अस्पताल में 50 बेड के कोविड सेंटर बनाए जाने का फैसला लिया गया है। इस के साथ श्री उनियाल ने बताया कि नरेंद्रनगर स्थित अस्पताल में आईसीयू और ऑक्सीजन प्लांट उपलब्ध है, यदि आवश्यक होगी तो एक ओर ऑक्सीजन प्लांट यहां लगाया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए गजा स्थित अस्पताल को अपग्रेड करने का निर्णय लिया गया है। टीएचडीसी के सहयोग से यहां 50 बेड का कोविड सेंटर बनाया जाएगा। इस कोविड सेंटर का निर्माण होने के बाद टिहरी जनपद में करीब 700 बेड की सुविधा उपलब्ध होगी।

कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने सभी लोगों से अपना आरटीपीसीआर टेस्ट करवाने की अपील भी की है। जिससे कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में काफी सहायता मिलेगी। उन्होंने सभी से सुरक्षित जीवन जीने और स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की अपील भी की। इसी के साथ श्री उनियाल ने जानकारी दी कि उत्तराखंड में विवाह समारोह में 20 लोगों को आरटीपीसीआर टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट भी लाना आवश्यक होगा। इस आदेश को तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है। इसी के साथ सरकार ने अब निर्णय लिया हैं कि अब हर गाव में मोबाइल वेन के द्वारा कोविड का टेस्ट करवाये जाएंगे। इस लिए सब लोग टेस्ट जरूर करवाये।