उत्तराखंड के गांव में फिर कोरोना का कहर,खेत-खलिहानों तक पहुंचा संक्रमण

0
2845

उत्तराखंड से कोरोना को लेकर अच्छी खबरें नहीं आ रही है। कोरोना संक्रमण अब धीरे-धीरे मैदानी क्षेत्रों से उत्तराखंड के गांव,खेत-खलिहानों तक पहुंचने लगा है। जिसको देखकर स्वास्थ्य विभाग के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच आई हैं। यह इस लिए भी चिंतित करने वाला हैं कि कोरोना संक्रमण अब मैदानों से गांव क तरफ तेजी के साथ बढ़ रहा है।

ताजा मामला पौड़ी गढ़वाल जिले के पोखड़ा विकास खंड का है। जहां के सिलेथ गांव में एक साथ कोरोना के लगभग 50 संक्रमित मिलने से शासन-प्रशासन में हड़कंप मच गया है। इस गांव से स्वास्थ्य विभाग को ग्रामीणों के कोरोना संक्रमित होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद आनन-फानन में स्वास्थ्य विभाग द्वारा ग्रामीणों को सैंपल जांच के लिए भेजे गए। जिसके बाद स्थिति और स्पष्ट हुई।

इस बारे में हमारे प्रतिनिधि सुरेंद्र सिंह रावत ने जब पौड़ी के मुख्य चिकित्साधिकारी मनोज शर्मा से बात की तो उनका कहना हैं कि पोखड़ा विकास खंड के सिलेथ गांव से हमें कुछ लोगों को अचानका खांसी-बुखार होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद इस गांव में 7 दिसंबर को स्वाथ्य विभाग द्वारा गांव के 86 ग्रामीणों के कोरोना जांच के सैंपल लिए गए थे। जिसमें 39 ग्रामीणों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद सिलेथ गांव को कंटेंनमेंट जोन बना दिया गया। साथ ही गांव में कोरोना पॉजिटिव ग्रामीणों को होम आइसोलेट कर दिया गया है। जिन पर स्वास्थ्य विभाग की टीम नजर बनाए हुए है। इसी के साथ बाकि ग्रामीणों की भी स्वास्थ्य विभाग द्वार जांच की जा रही हैं,और उनकी दिनचर्या पर नजर रखी जा रही है।

पोखड़ा ब्लॉक के सिलेथ गांव को किया गया सील

आपको बता दें पौड़ी जिले के पोखड़ा ब्लॉक के सिलेथ गांव में 24 नवंबर से 1 दिसंबर तक रामलीला का मंचन किया गया था। इसी दौरान गांव के कुछ लोगों को खांसी और बुखार की शिकायत हुई।  जिसके बात स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इन लोगों की सैंपलिंग की,जिसमें अभी तक 87 लोगों कोरोना संक्रमित पाए गए है। इस गांव में वर्तमान में लगभग 285 ग्रामीण रह रहे है।

पोखड़ा ब्लॉक ने नोडल अधिकारी मंयक का इस बारे में कहना हैं कि सिलेथ गांव को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। इसी के साथ इस गांव में रामलीला मंचन देखने आए आस-पास के ग्रामीणों की भी कोरोना जांच की जा रही है। क्योंकि रामलीला मंचन के दौरान इस गांव में रामलीला देखने आसपास के कई ग्रामीण आते थे। उन तक भी यह संक्रमण फैल सकता है। इस बात की गंभीरता से जांच की जा रही है।

इससे पहले भी उत्तराखंड के एक गांव में पाएं गए थे 91 कोरोना संक्रमित

आपको बता दें इससे पहले सितंबर माह में भी उत्तराखंड के अल्मोड़ा के धौलादेवी के काभड़ी गांव में भी एक साथ 91 ग्रामीण कोरोना पॉजिटिब पाए गए थे। इसके एक बार फिर उत्तराखंड पौड़ी गढ़वाल  के पोखड़ा ब्लॉक के सिलेथ गांव में कोरोना बम फूटा है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का इस बारे में कहना हैं कि लोग कोरोना को लेकर लगातार लापरवाही बरत रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल नहीं रखा जा रहा है। जिसका खामियाज अब ग्रामीणों को भी भुगतना पड़ रहा है। यह वजह हैं कि उत्तराखंड में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 82 हजार पार पहुंच गया है।