यूकेडी में शामिल होने के बाद श्रीनगर विधानसभा के भ्रमण पर निकले मोहन काला,ग्रामीणों ने कहा अब की बार यूकेडी की सरकार

0
1852

मकर संक्रांति को उत्तराखंड क्रांति दल में शामिल हुए समाज सेवी मोहन काला इन दिनों श्रीनगर विधानसभा के भ्रमण पर है। जहां ग्रामीणों ने मोहन काला का फूल-मालाओं से भव्य स्वागत किया। इस दौरन खास बात जो देखने में आ रही हैं,वह है श्रीनगर विधानसभा में एक नारे गूंज अब की बार यूकेडी की सरकार। इन नारों की गूंज ने उत्तराखंड में राष्ट्रीय पार्टी के नेताओं के माथे पर चिंता की लकीरें जरूर ला दी है।

मोहन काला यूकेडी में शामिल होने के बाद से लगातार श्रीनगर विधानसभा के दूरस्थ क्षेत्रों के भ्रमण पर है। जहां वह लोगों से मिल रहे है,उनकी समस्याओं से अवगत हो रहे है। जिन के निदान के लिए श्री काला ग्रामीणों को आश्वस्त कर रहे हैं कि इस बार राष्ट्रीय पार्टियों के छलावे में न आकर हम उत्तराखंड में विकास की नयी भूमिका लिखेंगे।

आपको बता दें समाज सेवी मोहन काला पिछले पांच सालों से लगातार श्रीनगर विधानसभा में भ्रमण कर रहे है। जहां वह घर-घर जाकर लोगों से मिल रहे है। उनकी समस्याओं को सुन रहे है। मोहन काला फाउंडेशन के तत्ववाधान में श्री काला निरंतर श्रीनगर विधानसभा और उत्तराखंड के हर वंचित समाज के लिए कार्यरत भी है। जरूरतमंद लोगों के लिए स्वास्थ्य-शिक्षा और उनकी समस्याओं के निदान के लिए मोहन काला हमेशा खड़े रहते है। यही वजह भी हैं कि श्री काला के यूकेडी में शामिल होने के बाद से श्रीनगर विधानसभा के ग्रामीणों और उनके समर्थकों में खुशी की लहर है।

यूकेडी के केंद्रीय कोषाध्यक्ष एवं लोकसभा प्रभारी बनने के बाद मोहन काला ने श्रीनगर विधानसभा के अंतर्गत श्रीनगर बाजार में ‘संकल्प यात्रा’ रैली निकाली थी। जिसमें बड़ी संख्या में यूकेडी के वरिष्ठ नेता और कार्यकर्ता शामिल हुए। इस रैली की धमक की आवाज़ दिल्ली तक सुनाई दी थी। इसके बाद मोहन काला ने श्रीनगर विधानसभा के अंतर्गत सुमाड़ी,बुधाणी,खिर्सू,चौबट्टा,चौपड़ा,गोदा,चौंरीखाल,पैंठाणी,चाकिसैंण,मजरा महादेव,त्रिपाली सैंण,सलौनखाल,कैन्यूर,बैंड,पिटसैंण,जगतपुरी,रिक्साल गांव चौथान और जगतपुरी,मंसारी,पापतौली,ऊफरैंखाल,चौखाल,जसपुरखाल,थैलीसैंण,कपरोली,नौठा,चमलोड़ी,सैंजी,चिपलघाट और पाबौं में लोगों के जनसंपर्क किया। इस दौरान क्षेत्र के लोगों ने यूकेडी नेता मोहन काला का जबरदस्त स्वागत किया।

क्षेत्र भ्रमण कर लौटे यूकेडी नेता मोहन काला ने संवाद जाह्नवी के विशेष बातचीत करते हुए कहा कि उत्तराखंड में लोग परिवर्तन चाहते है। बीजेपी और कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टियों ने इस राज्य का पीछले 20 सालों में सिर्फ दोहन किया है। यहां विकास के नाम पर पलायन के मार झेल रहे गांव,बेरोजगार युवा,बंजर होते खेत-खलिहान और ध्वस्त होती अर्थव्यवस्था इन पार्टियों की देन है।

श्री काला ने कहा कि हम इन राष्ट्रीय पार्टियों से अब राज्य की जनता को भ्रमित नहीं होने देंगे। जिस पार्टी ने इस राज्य के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई,वही पार्टी अब इस राज्य के विकास को नयी ऊंचाई तक लेकर जाएगी। कांग्रेस-बीजेपी ने राज्य बनाने की अवधारणा को ही पूरी तरह धराशायी कर दिया। आज पहाड़ से पलायन रुकने के बजाय और तेज हो गया। खेती बागवानी समाप्ति के कगार पर पहुंच गई। लेकिन उत्तराखंड क्रांति दल अब उत्तराखंड को बचाने की लड़ाई पुन: शुरू करेगी। हम पहाड़ वासियों के दर्द को समझते है। हम आपको विश्वास दिलाते हैं कि यूकेडी सत्ता में आई तो स्वास्थ्य-शिक्षा और चिकित्सा की आधुनिक सुविधाएं जनता को उपलब्ध कराएगी। पहाड़ों पर छोटे-छोटे उद्योग लगाकर बेरोजगार युवाओं को रोजगार भी उपलब्ध कराया जाएगा। पहाड़ के युवाओं को पहाड़ पर रोजगार उपलब्ध करवा हम पलायन रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

मोहन काला के उत्तराखंड क्रांति दल में शामिल होने के बाद से उत्तराखंड में यूकेडी को मिल रहे अपार जनसमर्थन को देखते हुए राजनीतिक विश्लेषकों का कहना हैं कि इस बार उत्तराखंड के राजनैतिक मंच पर उत्तराखंड क्रांति दल के माध्यम से बहुत बड़ा उलटफेर होने की संभावना है। यही वजह भी हैं कि बीजेपी-क्रांगेस को अपनी चुनावी रणनीति बदलनी पड़ रही है,क्योंकि आने वाले 2020 के विधानसभा चुनाव में इन राष्ट्रीय पार्टियों को कड़ी चुनौती मिलने जा रही है।