नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिवस पर उत्तराखंड के पुरकुल में देश के पहले सैन्य धाम का शिलान्यास,शहीद के परिजनों के लिए त्रिवेंद्र रावत ने की बड़ी घोषणा

0
1338

5 अप्रैल 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि “मैं चारधाम,हेमकुंड धाम और सैन्य धाम की संगम स्थली,उत्तराखंड के जन-जन को प्रणाम करता हूं”। प्रधानमंत्री की सैन्य धाम की स्थापना को आगे बढ़ाते हुए कारगिल दिवस पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी राज्य में चार धामों के बाद एक और सैन्यधाम बनाने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री ने कहा था कि यह धाम पूरी तरह से डिजिटल होगा और इसमें साल 1947 के बाद देश की रक्षा के लिए कुर्बानी देने वाले हर सैनिक का नाम दर्ज किया जाएगा। इस सैन्यधाम में एक क्लिक पर हर सैनिक का पूरा बायोडाटा उपलब्ध हो जाएगा।

प्रधानमंत्री के उत्तराखंड में सैन्य धाम के सपने को साकार करते हुए शनिवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिवस पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उत्तराखंड के पांचवें धाम सैन्य धाम का शिलान्यास किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने शहीद के परिजनों के लिए बड़ी घोषणा की। सैन्य धाम का शिलान्यास करते हुए श्री रावत ने कहा के शहीद के परिजनों को मिलने वाली राशि अब 10 लाख रूपये से बढ़ाकर 15 लाख रुपये कर दी गई है। राज्य सरकार पहले शहीद के परिजन को 10 लाख रूपये देती थी। मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि सैन्यधाम के लिए हर शहीद सैनिक के परिवार के घर के आंगन की मिट्टी लाई जाएगी।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड में पांचवें धाम के तौर पर सैन्य धाम की घोषणा की थी। जिसके बाद उत्तराखंड सरकार ने सैन्य धाम की स्थापना के लिए भूमि तलाशनी शुरू कर दी थी। देहरादून के पुरुकुल गांव में राज्य के पांचवें धाम सैन्य धाम का शिलान्यास करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को साकार करते हुए हमने सैन्य धाम के लिए भूमि और बजट की व्यवस्था की,जिसके बाद आज प्रधानमंत्री जी का यह सपना साकार हुआ है।

श्री त्रिवेंद्र ने कहां कि हमारे सैनिकों का हित समानीय है। हम हमेशा सैनिकों के साथ खड़े हैं,सैनिकों और पूर्व सैनिकों की जी भी समस्याएं है। हम उनके हल के लिए शासन स्तर पर अपर सचिव और जिला स्तर अपर जिलाधिकारी को नोडल अधिकारी तैनात किया है। जो सैनिकों और पूर्व सैनिकों की समस्याओं का तत्काल समाधान कर रहे है।

देहरादून के पुरुकुल गांव में राज्य के पांचवें धाम सैन्य धाम में देश की रक्षा में बलिदान देने वाले वीर सपूतों के बारे में जानकारी दी जाएगी। इसी के साथ राज्य की गौरवशाली सैन्य परंपरा और अन्य जानकारियां भी सैन्य धाम में आम जन मानस को उपलब्ध कराई जाएगी। इस मौके पर